हौसले की उड़ान से पूनम बन गई एक मिसाल

हौसले की उड़ान से पूनम बन गई मिसाल
नोएडा। सफलता की इबादत की कहानी  कुछ लोग अपने मेहनत, अपने बल और अपने दम पर लिखते हैं। कहते हैं, पंख से कुछ नहीं होता, हौसलों से उड़ान होती है...।  मेरठ की रहने वाली पूनम सिंह पर यह कहावत सटीक बैठती है। नोएडा के सेक्टर-74 में रहने वाली पूनम ने न सिर्फ अपने परिवार को बिखरने से बचाया, बल्कि पुरुषों के व्यवसाय में अपना परचम लहराया। आज वे एक सफल उद्यमी के रूप में पहचान बना चुकी हैं।
पूनम बताती हैं कि वक्त और हालात कब बदल जाए ये कोई नहीं जानता, लेकिन बहुद हद तक हमारी जिंदगी की दशा और दिशा इस बात पर निर्भर करती है की हम बुरे हालात का सामना कैसे करते हैं। 20 साल की उम्र में इकलौते छोटे भाई की एक घटना में मौत हो गई, जिससे परिवार टूट गया। पूनम स्नातक के बाद अपनी पढाई पूरी नहीं कर पाई। माता-पिता को बेटे की कमी न महसूस हो, इसके लिए उन्होंने उनके सपने पूरे करने की ठान ली। मॉडलिंग की दुनिया में नाम कमाने और फिल्मों में काम करने की कसक ऐसी थी कि आज उनका खुद का प्रोडक्शन हाउस है। इस प्रोडक्शन हाउस से खुद ही नहीं बल्कि कई युवाओं के सपने को वे पूरा कर रही हैं। पूनम ने अपनी प्रतिभा का ऐसा जलवा दिखाया कि सबसे ज्यादा वीडियो बनाने का लिम्का रिकॉर्ड उन्होंने बना दिया। कॉमनवेल्थ गेम्स में वरिष्ठï निर्माता के तौर पर उन्होंने काम किया। इसके बाद स्पोट्ïर्स एंकर के तौर पर काम किया। संतुष्टïी नहीं मिली तो उन्होंने प्रोडक्शन हाउस में काम करना शुरू किया और काम सीखकर अपना खुद का प्रोडक्शन हाउस खोल लिया। इन्होने चिल्ड्रन सोसाइटी के साथ कई फिल्में बनाई।
------------------------