अलीगढ़ का टप्पल कांड : ढाई साल की बच्ची के साथ दरिंदों ने हैवानियत की सभी सीमाएं लांघी
 


 

अलीगढ़। किसी मासूम बच्ची के साथ कोई इतनी हैवानियत कैसे कर सकता है। टप्पल में ढाई साल की बच्ची की पोस्टमार्टम रिपोर्ट देखने के बाद रोंगटें खड़े हो जाते हैं। एक हाथ शरीर से अलग कर दिया। मासूम को दरिंदों ने इस कदर मारा कि उसकी नेजल ब्रिज (नाक व माथे को जोड़ने वाली हड्डी) और एक पैर में फ्रेक्चर तक हो गया। इसके चलते बच्ची की मौत सदमे की वजह से होना पोस्टमार्टम रिपोर्ट में आया है।

अलीगढ़ के टप्पल थाना क्षेत्र के मोहल्ला कानून गोयान निवासी ढाई साल की मासूम 30 मई को लापता हो गई थी। दो जून की सुबह शव घर के पास ही कूड़े के ढेर पर मिला था। शव का पोस्टमार्टम तीन डॉक्टरों के पैनल द्वारा किया गया था। डॉ. नवीन कुमार, डॉ. केके शर्मा और डॉ. उज्मा शामिल थीं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार मरने के बाद शरीर में जो बदलाव होते हैं। उसके बारे में एंटीमार्टम इंजरी (एएमआई) में डॉक्टरों ने विस्तार से लिखा है।

 

सदमे से तोड़ दिया दम :
रिपोर्ट में सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि बच्ची की किडनी व यूरिनली ब्लेडर नहीं पाया गया। बच्ची का हाथ शरीर से अलग था। इसकी वजह से उस जगह पर कीड़े पड़ चुके थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में डॉक्टरों ने हत्या तीन से चार दिन पूर्व होने की संभावना जताई है। यानि बच्ची की हत्या 30 मई को लापता होने के बाद ही कर दी गई थी। इस वजह से शव सड़ चुका था। जगह-जगह कीड़े पड़ चुके थे। दूसरी सबसे बड़ी बात रिपोर्ट में यह है कि मासूम की मौत सदमे की वजह से हुई है।

डॉक्टरों की भी कांप गई रूह :
मासूम बच्ची के शव का पोस्टमार्टम करने वाले पैनल में शामिल डॉ. केके शर्मा ने बताया कि यह पहला पोस्टमार्टम था, जिसमें उनकी रूह कांप गई।  इतनी छोटी बच्ची के शव का इतने बुरे हाल में पहली बार पीएम किया। सात साल से पोस्टमार्टम कर रहा हूं, लेकिन ऐसा केस पहले कभी नहीं सामने आया।  

किडनी निकाली, हाथ अलग किया
- मासूम के नेजल ब्रिज व पैर में आया है फ्रेक्चर, शरीर में पड़ चुके थे कीड़े
-30 मई को मासूम को अगवा किया दरिंदों ने, उसी दिन बच्ची को मार डाला गया
- पोस्टमार्टम रिपोर्ट में डाक्टरों ने लिखा, शॉक ड्यू टू एंटी मार्टम इंजरी

क्या कहते हैं एक्सपर्ट
मासूम का पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टर केके शर्मा के अनुसार शॉक यानि सदमे में शरीर की क्रियाओं जैसे दिल की धड़कन, दिमाग का काम करना बंद हो जाता है। इस वजह से इंसान की मौत हो जाती है। सदमा फ्रेक्चर होने, मारने-पीटने से भी हो सकता है। यह सब बातें मासूम का पोस्टमार्टम किए जाने के दौरान सामने आई हैं।

सीएमओ डॉ. एमएल अग्रवाल ने कहा, "विशेषज्ञ डॉक्टरों के पैनल ने मासूम बच्ची के शव का पोस्टमार्टम किया है। रेप की पुष्टि नहीं हुई है। क्योंकि शव इतनी बुरी तरह से सड़ चुका था। इसके चलते स्लाइड बनाकर प्रयोगशाला भेज दी गई है। बच्ची के पैर, नेजल ब्रिज में फ्रेक्चर मारने-पीटने की वजह से हुआ है।"