बारात घर वापस लेने पर विरोध शुरू, विधायक पंकज सिंह से मिला नोवरा

* प्राधिकरण के बरात घर लेने के खिलाफ लामबंद ग्रामीण


नोएडा। ग्रामीण क्षेत्रों में प्राधिकरण द्वारा लायी गई नई नीति के खिलाफ ग्रामीण लामबंध होते दिख रहे हैं। नोएडा प्राधिकरण ने हाल ही में यह घोषणा की है कि ग्रामीण क्षेत्रों में आने वाले बरात घर को अपने कब्ज़े में ले लेगी एवं उनके रख रखाव आदि का खर्चा प्राधिकरण उठाएगा। इसके साथ ही किसी भी व्यक्ति द्वारा वहां कार्यक्रम आयोजित करने के लिए प्रत्येक 24 घंटे के 7500 रुपए लिए जाएंगे।


प्राधिकरण के इस फैसले के ख़िलाफ़ नोवरा एवं मोरना विकास समिति ने आज विधायक पंकज सिंह से मिलकर इस बाबत आपत्ति जताई एवं ज्ञापन सौंपा।


इस दौरान संस्था के अध्यक्ष  रंजन तोमर ने कहा कि प्राधिकरण की यह नई पालिसी ग्राम विरोधी है एवं गरीब विरोधी भी।  यह संविधान के भी खिलाफ है जिसे लागू करने से पहले न ग्रामीणों से जानकारी ली गई न ही उनके हित की इसमें कोई बात है।


उन्होंने कहा कि गाँवों में बीपीएल परिवार एवं रिक्शाचालक, आया आदि गरीब परिवार भी निवास करते हैं, जो यहां न जाने कहाँ कहाँ से आकर यहाँ बसे हैं।  उन सभी के लिए एक बराबर चार्ज लेना अपने आप में एक ख़राब नीति का उदाहरण है।


उन्होंने कहा कि इसके साथ ही कई बार शादी आदि के प्रोग्राम में 24 घंटे से ज़्यादा का समय लग ही जाता है क्योंकि हलवाई आदि को एक दिन पहले ही तयारी करनी होती है।  किन्तु इस नीति के कारण यह फीस अगले घंटे लगते ही दोगुनी हो जायेगी। इसका एक पहलु यह भी है कि उन ग्रामीणों के पास अपने ही बरात घर को इस्तेमाल करने की प्राथमिता नहीं रहेगी जो अपनी ज़मीन इस शहर को बसाने को दे चुके हैं।


 ग्राम पंचायत की सभी शक्तियां अपने पास आने के बाद प्राधिकरण की यह प्राकृतिक ज़िम्मेदारी है कि वह गाँवों के बारात घरों की देख रेख करे। यदि प्राधिकरण ऐसी कोई नीति लाता भी है तो उसमें गरीबों के लिए एवं ग्रामीणों के लिए अलग से प्रावधान होना चाहिए।


मोरना निवासी अधिवक्ता राजकुमार ने इस दौरान विधायक पंकज सिंह से ग्राम विकास समिति मोरना की तरफ से कई मांगे रखी गई जिनमें वृद्धावस्था पेंशन योजना ,नालों एवं रोड के रुके हुए काम , स्ट्रीट लाइटों की समस्या , बरात घर से जल निकासी की सुविधा न होने की परेशानी एवं बरात घर को प्राधिकरण को न सौंपने की बात भी ज्ञापन में रखी है।


नोवरा महासचिव  पुनीत राणा ने छलेरा का नेतृत्व करते हुए ग्रामीणों की तरफ से बरात घर नीति का विरोध किया वहीं छपरौली निवासी एवं भाजपा युवा मोर्चा प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य प्रवीण चौहान ने अपने गाँव की तरफ से इस नीति का विरोध दर्ज करवाया। इस दौरान चमन सिंह बिट्टू आदि उपस्थित थे। 


इसके बाद विधायक पंकज सिंह ने यह आश्वासन दिया कि इस नीति को लागू नहीं होने दिया जाएगा एवं सीईओ नोएडा को तुरंत इस बाबत अवगत करवाया जाएगा। इसमें ज़रूरी बदलाव करने के बाद ही ऐसी नीति आएगी। नोवरा एवं ग्रामीण जनता ने पंकज सिंह को तुरंत लिए गए इस फैसले के लिए आभार जताया।