बरौला में 28 जून को आबादी तोड़े जाने को लेकर किसान लामबंद हुए, मुहं तोड़ जवाब देंगे

नोएडा। बरौला गांव में किसानों का नोएडा प्राधिकरण की गाँव उजाडू नीतियों के खिलाफ चल रहे आज धरने का बारहवाँ दिन भी जारी रहा।


महापंचायत के फैसले के अनुसार भारतीय किसान यूनियन भानु के युवा नोएडा अध्यक्ष कौशिंदर यादव प्रकोष्ठ के नेतृत्व में आज बरौला चौराहे पर प्राधिकरण का पुतला दहन किया गया।
आज धरने की अध्यक्षता चौधरी राजपाल सिंह व रवि यादव ने किया।
धरने में महिलाएं, पुरूष पिछले दिन से ज़्यादा संख्या रहे ।
आज भाकियू भानु के राष्ट्रीय महासचिव चौधरी बेगराज गुर्जर ने कहा कि बरौला के किसानो की पुश्तैनी ज़मीन है जिस पर वह सैकड़ों साल से बैठे हुए हैं। यह जमीन दादालाई है। एनजीटी के आदेश से पहले इस ज़मीन को किसानो के हक़ में बोर्ड मीटिंग में लीजबैक के लिये पास कर दिया गया है। अगर नोएडा के अधिकारियों ने किसानो के साथ ज़बरदस्ती ज़मीन ख़ाली करवाने की कोशिश की गयी तो मुँहतोड़ जवाब दिया जायेगा।


गौतमबुद्धनगर व आसपास के जिलो से भारतीय किसान यूनियन भानु के कार्यकर्ता यहाँ आने शुरू हो गये है । कई राजनीतिक दल व सामाजिक व किसान संगठन के लोग धरने मे शामिल हुए । भारतीय किसान यूनियन भानु के कार्यक्रता व क्षेत्र के किसान 28 जून को आने वाले तोड़फोड़ दस्ता के विरोध की तैयारी मे जुट गये है। बाहर से आने वाले कार्यकर्ताओं के लिये खाने-पीने व रहने की व्यवस्था कर दी गई है  किसी भी क़ीमत पर किसानो की ज़मीन को छिनने नहीं दिया जायेगा ।
धरने में मुख्य रूप से बीरसिंह यादव, इन्द्रजीत पहलवान, बीसी प्रधान, जतन पहलवान, रहीसुद्दीन ,अरूण शर्मा ,प्रेमसिंह भाटी , मा० ओमवीर चौहान ,विजय चौहान, नहपाल कश्यप, अवधेश पाठक, प्रदीप यादव, संजय कश्यप , चन्द्रपाल कश्यप, हुक्मसिंह कश्यप , आनन्द चौहान, अनिल बैसोया, कमल कसाना ,बंटी यादव, नागेन्द्र यादव, अनिल प्रजापति ,आशीष चौहान सहित दर्जनों महिलाएं व अन्य लोग मौजूद रहे ।