भाकियू (भानु) की पंचायत में किसानों के उजाड़ नीति के खिलाफ अनिश्चितकालीन धरना शुरू

 


नोएडा। भारतीय किसान यूनियन भानू द्वारा आज गांव बरौला में नोएडा प्राधिकरण की गांव उजाड़ नीति के खिलाफ एक विशाल पंचायत का आयोजन किया गया। पंचायत की अध्यक्षता राम तवर ने एवं संचालन भारतीय किसान यूनियन भानू के नोएडा महानगर अध्यक्ष अरुण शर्मा ने किया।


पंचायत में फैसला लिया गया कि प्राधिकरण की किसान उजाड़ नीति के खिलाफ भानु का आंदोलन जारी रहेगा और बरौला में धरना जो रविवार से शुरू हुआ है वह अनिश्चितकालीन जारी रहेगा।


बरौला में रविवार को आयोजित धरने को संबोधित करते हुए भारतीय किसान यूनियन भानू के राष्ट्रीय महासचिव चौधरी बेगराज गुर्जर ने कहा कि नोएडा के किसान जबसे यहां  नोएडा प्राधिकरण आया तब से परेशान हैं। किसानों की जमीन का अधिग्रहण मौके पर देखे बिना ही ऑफिस में बैठकर कर दिया गया। बिना मौके पर सर्वे किए ही सैकड़ों पुरानी आबादी को भी अधिग्रहण कर लिया गया।



चौधरी बेगराज गुर्जर ने कहा कि वर्ष 1976 से आज तक इसका कोई स्थाई समाधान नहीं किया गया। बरौला की आबादियों का 2011 में दोबारा सर्वे कराकर नोएडा ने गलती सुधारते हुए 5(1) क कमेटी में विनती में कर्ण के पक्ष में पास कर दिया गया। 176 व 177 वीं बोर्ड बैठक में लीजबैक के लिए पास कर दिया गया। उसके बावजूद अब नोएडा प्राधिकरण एनजीटी की आड़ में किसानों को उजाडना चाहता है, जो हरगिज नहीं होने दिया जाएगा। भारतीय किसान यूनियन भानू क्षेत्र की जनता के साथ मिलकर ईट से ईट बजाने का काम करेगी। मौके पर मौजूद राष्ट्रीय संगठन के महामंत्री बलराज भाटी ने कहा कि गौतम बुद्ध नगर की तीनों प्राधिकरण नोएडा ,ग्रेटर नोएडा व यमुना प्राधिकरण किसानों की समस्या का समाधान करने की बजाय किसानों को परेशान करने का काम कर रही है। भानु तीनों ही प्राधिकरण को खिलाफ आंदोलन करेगी।
प्रदेश महामंत्री चौधरी बीसी प्रधान ने कहा कि प्राधिकरण ने किसानों के साथ जबरदस्ती की तो पूरा गांव एवं क्षेत्र के लोग मुंह तोड़ जवाब देंगे। पंचायत में तय हुआ कि जब तक किसानों की बैक लीज नहीं की जाती तब तक अनिश्चितकालीन धरना जारी रहेगा। पंचायत में मुख्य रूप से भोपाल सिंह चौहान, महेंद्र चौहान, विजय सिंह चौहान, जगदीश गर्ग ,सुभाष चौहान ,रामकेश गुर्जर, सनी यादव, राजवीर मुखिया, कर्मवीर चौधरी ,अनिल प्रजापति, समसुद्दीन ,धर्मपाल चौहान, प्रेम सिंह भाटी, कमल कसाना , मनवीर प्रधान ,अनिल ,अशोक चौहान, चंदरे कश्यप , हुकम सिंह कश्यप, आशीष चौहान, बालक राम कश्यप, अतर सिंह, सनी यादव आदि सैकड़ों किसान मौजूद थे