गाजियाबाद में नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना के साथ सफाई और पौधारोपण कार्यक्रम आयोजित

 


गाजियाबाद। नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना के साथ गाजियाबाद जनप्रतिनिधियों ने हिंडन नदी की सफाई और पौधारोपण कर  विशेष अभियान चलाया। विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने पर्यावरण और नदियों के संरक्षण के लिए आम जनता का आह्वान किया।


शनिवार को गाजियाबाद में नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना के साथ गाजियाबाद के सभी जनप्रतिनिधियों, जिलाधिकारी समेत सभी आला अधिकारियों ने हिंडन (हरनंदी) नदी की सफाई और नदी के आस-पास हरियाली बढ़ाने के लिए पौधारोपण कर विशेष अभियान चलाकर जल बचाओ, जीवन बचाओ और पृथ्वी बचाओ का संदेश दिया। साथ ही नदियों एवं पर्यावरण के संरक्षण के लिए प्रभारी मंत्री सुरेश खन्ना ने कार्यक्रम में उपस्थित सभी लोगों को शपथ भी दिलाई।


इस दौरान विधायक नंदकिशोर गुर्जर, सुनील शर्मा, अजीतपाल त्यागी, महापौर आशा शर्मा, मुरादनगर चैयरमेन विकास तेवतिया, गाजियाबाद जिपं अध्यक्ष लक्ष्मी मावी सहित सैकड़ों की संख्या में आमजनमानस भी पर्यावरण संरक्षण और जल संरक्षण के लिए शुरू किए गए कार्यक्रम का हिस्सा बने। नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना और सभी जनप्रतिनिधियों ने हिंडन नदी की सफाई के बाद नदी के आस-पास हरियाली का घनत्व बढ़ाने के लिए पौधारोपण किया।


नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना ने सफाई अभियान के बाद जनता को संबोधित करते हुए कहा कि नदियों के संरक्षण और पर्यावरण के संतुलन को बनाने की दिशा में प्रदेश सरकार युद्धस्तर पर कार्य कर रही है। गंगा नदी में आए बदलाव को आप सभी देख और महसूस कर रहे होंगे। इसके अतिरिक्त प्रदेश की सभी नदियों की सफाई के साथ-साथ प्रदेश को हरा-भरा बनाने के लिए प्रदेश सरकार वचनबद्ध है।


वहीं लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने भी पौधारोपण और सफाई के बाद कहा कि आज जल और पर्यावरण का संरक्षण अत्यंत आवश्यक है। विश्व में ग्लोबल वार्मिंग के खतरे बढ़ रहे हैं। वहीं पर्यावरण के साथ-साथ नदियों और तालाबों के संरक्षण एवं पृथ्वी का संतुलन बना रहे इस दिशा में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी युद्धस्तर गति से कार्य कर रहे हैं।


देश की जिन नदियों की सफाई के नाम पर करोड़ों रूपये लूटे गए उसे नमामी गंगे परियोजना के तहत संकल्पबद्ध होकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में और प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में हमने गंगा नदी में आए परिवर्तन को  कुंभ में महसूस किया है।


 पर्यावरण संरक्षण, तालाब और नदियों का संबंध प्राचीन काल से सनातन धर्म से जुड़ा हुआ था लेकिन वर्तमान में भागती दौड़त जिंदगी में हम उसे भूल चुके हैं। नदियों के पूजा अर्चना में कहीं न कहीं नदियों का सम्मान और उसके साफ-सफाई का भाव छिपा था। पहले लोग स्वयं तालाब और नदियों की सफाई करते थे जिससे भू-जलस्तर के अतिरिक्त पृथ्वी का भी संतुलन बना रहता था। पानी का व्यर्थ उपयोग प्राचीन समय में पाप माना जाता था। आज जरूरत है कि आम जनमानस अपने पूर्वजों के प्रकृति के प्रति प्रेम और आदर स्वभाव से प्रेरणा लेते हुए देश के प्रधानमंत्री श्री मोदी जी और प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी जी के साथ कंधे से कंधा मिलाकर जल संरक्षण और पर्यावरण के लिए आगे आए पौधारोपण और गांवों में तालाब की सफाई कर उसे पुनः मूल रूप में लाकर हम अपने आने वाली पीढ़ियों को भविष्य संभावित जल संकट जैसे समस्याओं से दूर रख सकते हैं गाजियाबाद में और पृथ्वी के संतुलन बनाए रखने में भी अपना बहुमूल्य योगदान दे सकते हैं। वहीं सभी जनप्रतिनिधियों ने भी पर्यावरण और जलसंरक्षण के लिए आम जनता को आगे आने की अपील की।