पब्लिक स्कूलों के मनमानी पर जिला प्रशासन ने लगाया अर्थदंड

नोएडा। पब्लिक स्कूलों की मनमानी पर जिला प्रशासन ने डंडा चला दी है। नियमों के उल्लंघन पर जिला शुल्क नियामक समिति की रिपोर्ट पर जिला प्रशासन ने नोएडा और ग्रेटर नोएडा के 17 स्कूलों पर 08 लाख 30 हजार रुपये का अर्थदंड लगाया है। प्रशासन की इस कार्रवाई से दूसरे स्कूलों के प्रबंधन में हड़कंप मचा हुआ है।


गौरतलब है कि पूर्व में स्कूलों में मनमानी फीस वृद्धि को लेकर तमाम स्कूलों में पढऩे वाले बच्चों के अभिभावकों ने विरोध दर्ज कराया था। इस बाबत जिला प्रशासन से भी शिकायत की गई थी। खुद जिलाधिकारी ने इस मामले का संज्ञान लिया था और अभिभावकों को भरोसा दिया था कि उनके साथ अन्याय नहीं होगा। उन्होंने इस मामले को जिला शुल्क नियामक समिति को सौंप दिया था। समिति ने जिले के तमाम स्कूलों को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया था।


जिला शुल्क नियामक समिति की शनिवार को हुई बैठक में स्कूलों को भेजे गए नोटिस और उनसे मिले जवाब की समीक्षा की गई। जिन स्कूलों ने नोटिस का जवाब नहीं दिया, उनके खिलाफ भी सख्ती बरतने का फैसला लिया गया। सेक्टर-27 स्थित जिलाधिकारी के कैंप कार्यालय में हुई इस बैठक में अभिभावकों को भी आमंत्रित किया गया था। समिति ने शनिवार को नोएडा और ग्रेटर नोएडा के 17 स्कूलों पर जुर्माना लगाया है। जिन स्कूलों पर जुर्माना लगाया गया है, उनमें सीएलएम पब्लिक स्कूल ग्रेटर नोएडा पर 75 हजार, गगन पब्लिक स्कूल गौड़ सिटी ग्रेटर नोएडा वेस्ट 75 हजार, ग्रेड्स इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर-33 नोएडा 75 हजार, श्री रवि शंकर विद्या मंदिर सेक्टर-48 नोएडा 75 हजार, एसडी पब्लिक स्कूल भंगेल 75 हजार, कार्ल हूबर सेक्टर-62 नोएडा 75 हजार, धर्म पब्लिक स्कूल ग्रेटर नोएडा 75 हजार, विश्व भारती पब्लिक स्कूल नोएडा 50 हजार, रॉकवुड स्कूल नोएडा 10 हजार, रामाज्ञा स्कूल सेक्टर-53 नोएडा 20 हजार, जीडी गोयनका पब्लिक स्कूल ग्रेटर नोएडा 10 हजार, माडर्न पब्लिक स्कूल शाहबेरी 10 हजार, एसेंट इंटरनेशनल स्कूल ग्रेटर नोएडा 10 हजार, एपीजे इंटरनेशनल स्कूल ग्रेटर नोएडा 10 हजार, रेयान इंटरनेशनल स्कूल ग्रेटर नोएडा वेस्ट 10 हजार और जागरण पब्लिक स्कूल पर एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है। इससे पूर्व भी जिला प्रशासन कई स्कूलों पर भारी जुमाना लगा चुका है। समिति की कार्रवाई पर अभिभावकों ने संतोष जाहिर किया है।