प्लास्टिक के कचरे से नोएडा में सड़क निर्माण शुरू, एक अच्छी पहल

नोएडा।


प्लास्टिक के कचरे से सड़क निर्माण अब सफल प्रयोग बन गया है। नोएडा में अब बेकार प्लास्टिक का इस्तेमाल करके सड़क बनाने का काम शुरू हो गया है. सेक्टर-14ए के सामने से महामाया फ्लाईओवर तक एक्सप्रेसवे पर 2.6 किलोमीटर लंबी सड़क के निर्माण में बिटुमिन के साथ बेकार प्लास्टिक का इस्तेमाल किया गया है. शहर में यह पहला प्रयोग है और इसे प्राधिकरण अधिकारी सफल बता रहे हैं।



इसी रोड पर सेक्टर 14 चिल्ला रेगुलेटर से महामाया फ्लाई ओवर तक साढ़े 5 किमी एलिवेटेड रोड का निर्माण भी किया जाना है। जिसपर तकरीबन 650 करोड़ रुपये खर्च होंगे। नोएडा प्राधिकरण और पीएलडब्लूडी आधा-आधा खर्च वहन करेंगे। फिलहाल , मामला अभी ठंडे बस्ते में है। पर , बेकार प्लास्टिक के कचरे से सड़क निर्माण अच्छी शुरुआत है। अगर यह अधिक टिकाऊ होगी तो यह मिल का पत्थर साबित होगी।


बता दें कि करीब 2 महीने पहले नोएडा अथॉरिटी ने वेस्ट प्लास्टिक का इस्तेमाल करके सड़क बनाने में रुचि दिखाई थी. प्रदेश के एक-दो अन्य शहरों में भी इस तरह का प्रयोग किया गया है. इसी के चलते सेक्टर-14ए से महामाया फ्लाईओवर तक 2.6 किमी लंबी इस सड़क को बनाने में 6 टन बेकार प्लास्टिक का इस्तेमाल किया गया है.


इस प्लास्टिक को स्पेशल प्लांट में पिघलाकर बिटुमिन (कंक्रीट, बजरी, डामर) के साथ मिलाकर सड़क बनाई गई है. इससे सबसे ज्यादा फायदा इस बात का होगा है कि बेकार प्लास्टिक की रिसाइकिलिंग के लिए अलग से इंतजाम नहीं करना पड़ेगा।


गौरतलब है कि देश में बहुत जल्द सिंगल यूज प्लास्टिक मोदी सरकार रोक लगाने की तैयारी में है. कैबिनेट सचिव की अध्यक्षता में बनी हाई लेवल कमेटी ने इसको अपनी रिपोर्ट बना ली है. माना जा रहा है कि 2 अक्टूबर से पहले सिंगल यूज प्लास्टिक पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया जाएगा. प्रदूषण से निपटने और प्लास्टिक के बढ़ते इस्तेमाल को कम करने के मकसद से केंद्र सरकार सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ मुहिम चला रही है।