एमिटी विश्वविद्यालय में में ' द क्रिमिनल कान्क्लेव सीआरआईएमईएन का आयोजन

**  एमिटी विश्वविद्यालय में द क्रिमिनल लाॅ काॅनकेल्व सीआरआईएमईएन का आयोजन



 नोएडा। छात्रों के अपराधिक कानून की बढ़ती प्रकृति के संर्दभ मेे विभिन्न प्रतियोगिताओं के माध्यम से जानकारी प्रदान करने हेतु एमिटी लाॅ स्कूल नोएडा द्वारा द क्रिमिनल लाॅ काॅनकेल्व ''सीआरआईएमईएन '' नामक कार्यक्रम का आयोजन एफ ब्लाक सभागार, एमिटी विश्वविद्यालय में किया गया। इस कार्यक्रम में उत्तरप्रदेश सरकार की राज्यमंत्री (स्वंतत्र प्रभार) श्रीमती स्वाती सिंह, उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश श्री बृजेश कुमार, हिमालय गढ़वाल विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर डा ए के सिंन्हा, एमिटी लाॅ स्कूल नोएडा के चेयरमैन डा डी के बंद्योपाध्याय एंव एमिटी लाॅ स्कूल के एडिशनल डायरेक्टर डा आदित्य तोमर ने विजयी छात्रों को पुरस्कृत किया।


उत्तरप्रदेश सरकार की राज्यमंत्री (स्वंतत्र प्रभार) श्रीमती स्वाती सिंह ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि आज भी समाज के कई हिस्सों में महिलाओं एंव पुरूषों को बराबरी का हक नही मिलता। मात्र कानून बनाने से लोगों के सोच में बदलाव नही आयेगा। लोगों के सोच को बदलने की  आवश्यकता है।


उन्होनें कहा कि हमारे घर भी समाज का अहम हिस्सा है इसलिए परिवर्तन का प्रारंभ भी अपने घर से करना होगा। श्रीमती सिंह ने कहा कि हम सभी को आप छात्रों से काफी सारी उम्मीदें है। भविष्य में आप न्यायीक प्रणाली में अधिवक्ता, न्यायाधीश अन्य पदों पर या सांसद, विधायक होगें इसलिए समाज में परिवर्तन की जिम्मेदारी आप पर है। आपको लोगों को जागरूक करना होगा। अगर आजादी के इतने वर्षो बाद भी समाज में महिलाओं एंव पुरूषों को समान अधिकार मिल गया होता तो हमारे प्रधानमंत्री जी को ''बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ'' के अभियान ना चलाना पड़ता। समाज में अपनी सोच के परिपेक्ष्य का बदलना होगा।


इस द क्रिमिनल लाॅ काॅनकेल्व में विशेषज्ञों ने अपने अनुभवों को साझा किया है जिसका आपको अवश्य लाभ मिलेगा।
उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश श्री बृजेश कुमार ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि आपको केवल समस्या को नही देखना है बल्कि उसके निवारण को भी ढूंढना होगा। माॅब लिचिंग, जेंडर सिस्टम एंव साइबर अपराध वर्तमान न्यायीक प्रणाली के लिए कुछ नई चुनौतियां है जिस पर आपको विचार करना चाहिए।


एमिटी लाॅ स्कूल नोएडा के चेयरमैन डा डी के बंद्योपाध्याय ने अतिथियों एंव छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि कक्षा में आपको शिक्षकों द्वारा ज्ञान प्राप्त होता है और विधी के क्षेत्र में हो रही आधुनिक प्रगति को विशेषज्ञों द्वारा बताने हेतु इस प्रकार के कार्यक्रम सहायक होते हैं जो आपके ज्ञान में इजाफा भी करते हैं। आज हर दिन समाज, तकनीकी एंव व्यक्ति की अपेक्षाओं में परिवर्तन आ रहा है जिससे अपराध के तरीकों एंव अपराध करने की मानसिकताओं में बदलाव आया है। इसलिए उसके अनुरूप भविष्य के विधी व्यवसायिकों को तैयार करना होगा और यह द क्रिमिनल लाॅ काॅनकेल्व उसी क्षेत्र में अग्रणी कदम है। एमिटी मे हम छात्रों को सदैव आगे बढ़ने का मौका प्रदान करते है।


एमिटी लाॅ स्कूल नोएडा द्वारा आयोजित इस द क्रिमिनल लाॅ काॅनकेल्व में विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया जिसमें लीगल क्विज प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार दिल्ली विश्वविद्यालय के फैकल्टी ऑफ लाॅ के छात्र शिवम द्विवेदी एंव मसीहा नजम को, द्वितीय पुरस्कार एमिटी लाॅ स्कूल दिल्ली की सुश्री शिवानी जोहरी को एंव तृतीय पुरस्कार दिल्ली विश्वविद्यालय की सुश्री साक्षी अरोरा एवं  आदित्य यादव को प्रदान किया गया। विधी निर्माण लेखन प्रतियोगिता में एमिटी लाॅ स्कूल नोएडा की सुश्री धुरिवी सिकरवार को प्रथम, आईएफआईएम बैगलोर के  केहन भावेश राव एंव सुश्री मेघना को द्वितीय पुरस्कार एंव एमिटी लाॅ स्कूल के  हिमांग जैन एंव सुश्री तान्या को तृतीय पुरस्कार प्रदान किया गया।


निंबध लेखन प्रतियोगिता के अंर्तगत एमिटी लाॅ स्कूल नोएडा के श्री शिखर सिंह को प्रथम पुरस्कार, पुणे के सिंबायसिस लाॅ स्कूल के रूपेश जैन को द्वितीय पुरस्कार एंव एमिटी लाॅ स्कूल नोएडा की सुश्री साक्षी को तृतीय पुरस्कार प्रदान किया गया। वाद विवाद पुरस्कार के अंर्तगत बेस्ट स्पीकर ( विषय के विपरित) का पुरस्कार वीआईपीएस के श्री आदित्य कपूर को, अंर्तगत बेस्ट स्पीकर ( विषय के साथ) का पुरस्कार एमिटी स्कूल ऑफ इकोनाॅमिक्स के अंकुश अस्थाना को एंव एमिटी लाॅ स्कूल नोएडा की सुश्री भावना भाटी एंव श्री शौर्य खत्री की टीम को बेस्ट टीम का पुरस्कार प्रदान किया गया।


द क्रिमिनल लाॅ काॅनकेल्व ''सीआरआईएमईएन '' नामक कार्यक्रम में ''साइबर अपराधों पर भारतीय परिपेक्ष्य'' विषय पर परिचर्चा सत्र का आयोजन किया गया जिसमें सीबीआई के पुलिस अधिक्षक किरन शिवाकुमार, उच्चतम न्यायालय के अधिवक्ता श्रीमती नपिनई एन एस, राष्ट्रीय सुरक्षा विषेषज्ञ अमित दूबे, साइबर विशेषज्ञ कर्नल सुनिल कपिला एंव एनडीटीवी के वरिष्ठ संवाददाता सौरभ शुक्ला ने अपने विचार रखे।   इस कार्यक्रम में देश के विभिन्न विधी संस्थानों से लगभग 400 प्रतिभागीयों ने हिस्सा लिया है।
----------------------------------------------------