यूपीएससी में सफल हुए सुभाष कुमार चौरसिया

यूपीएससी में सफलता के झंडे गाड़े सुभाष कु. चौरसिया, बने सहायक नगर आयुक्त
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐


हर इंसान को अपनी 'मंजिल' की तलाश है, मंजिल की जूस्तुजू के चलते ही वह अपना जीवन सफर में झोंक देता है। लेकिन कोई मंजिल आखिरी नहीं, मंजिलें जहां ख़त्म होंगी, वहां जीवन थम सा जाता है। और जीवन रुकने का नाम नहीं है, चलने का नाम है। ये है सुंदर अल्फ़ाज़- 


 " जिस दिन से चला हूं मेरी मंज़िल पे नज़र है 
आंखों ने कभी मील का पत्थर नहीं देखा..। "


धैर्य का फल मीठा होता है और इसका जीता जागता उदाहरण हैं सुभाष कुमार चौरसिया जिन्होंने अनेक विफलताओं का सामना करते हुए अंततः सफलता अपने नाम कर ली l यूपीपीसीएस परीक्षा 2017 में सुभाष जी ने सहायक नगर आयुक्त (एग्जीक्यूटिव ऑफिसर) का पद प्राप्त किया है l 



सुभाष कुमार चौरसिया मूलत: ग्राम बरुआ दक्षिणी तहसील लंभुआ जिला सुल्तानपुर के निवासी हैंl इनके पिता शंभू नाथ चौरसिया केंद्रीय विद्यालय में उप प्राचार्य और माता श्रीमती सीमा चौरसिया सफल गृहणी हैं l वे अपनी सफलता का श्रेय ईश्वर की कृपा, परिवार के सहयोग और अपने चाचा बजरंगबली चौरसिया ( एसपी  ट्रैफिक मुजफ्फरनगर) को देते हैं l 
सुभाष की प्राथमिक शिक्षा असम में हुई और बाकी की स्कूली शिक्षा केंद्रीय विद्यालय छतरपुर मध्य प्रदेश में हुई। खेल कूद और क्विज में इनकी विशेष अभिरुचि रही। जीव विज्ञान से स्नातक  पूरा  करते ही सिविल सेवा की परीक्षा में लग गए l साथ ही भारतीय वन सेवा में साक्षात्कार दिया, परंतु असफल होने  के बावजूद घबराए नहीं और आगे की तैयारी में जुट गए।
 यूपीपीसीएस परीक्षा में इनके विषय रक्षा अध्ययन और समाज कार्य थे। सामान्य हिंदी के पेपर के लिए हरिकेश चौरसिया (सीडीओ गाजीपुर) के मार्गदर्शन  के लिए उनका आभार व्यक्त करते हैंl साक्षात्कार के विषय में मार्गदर्शन के लिए देवमणि द्विवेदी वर्तमान विधायक  लंभुआ (सुल्तानपुर) के कृतज्ञ हैं l
यूपीपीएससी परीक्षा में सफलता प्राप्त करने पर चौरसिया समाज की ओर से बहुत- बहुत शुभकामनाएं। साथ ही चौरसिया समाज के बच्चे इसी प्रकार सफलता प्राप्त करते रहें, यही समाज के असली " रत्न " हैं।
                सुरेश चौरसिया, पत्रकार -9810791027.