बच के रहना रे भईया, लेडी सिंघम कांस्टेबल चंचल चौरसिया ने मनचले को सिखाया सबक, 27 सेकंड में मारे 22 जूते

 


कानपुर। कानपुर के बिठूर कस्बे में मंगलवार सुबह कांस्टेबल चंचल चौरसिया ने अरविंद नाम के मनचले को पकड़कर 27 सेकेंड में 23 जूते मारे। आरोपी वहां से निकल रहीं छात्राओं पर छींटाकशी व कमेंट कर रहा था। आरोपी से छात्राओं के सामने हाथ जोड़कर माफी भी मंगवाई गई । मंगलवार शाम सामाजिक कार्यकर्ताओं ने कांस्टेबल और उसकी टीम का माला पहनाकर सम्मान किया।



बिठूर थाना क्षेत्र में तैनात इस लेडी सिंघम का नाम चंचल चौरसिया है. सोमवार की सुबह चंचल ने वर्दी का बखूबी फर्ज निभाते हुए आने -जाने वाली छात्राओं से छेड़छाड़ कर रहे एक रोमियो को सबक सिखाने का काम किया.


कानपुर की इस लेडी सिंघम बनी महिला सिपाही चंचल चौरसिया। शोहदे पर की जूतों की बरसात करते हुए 27 सेकेंड में बरसाए दिए 23 जूते।


चंचल ने जब शोहदे को छात्राओं पर फब्तियां कसते सुना तो चंचल चौरसिया का पारा गर्म हो गया। चंचल ने लेडी सिंघम का अवतार धारण कर शोहदे को ललकारा। चंचल उस वक्त वहां पर अकेली थी, लेकिन शायद वर्दी की ताकत चंचल के साथ थी, औऱ यही वजह रही कि लेडी सिंघम के अवतार में चंचल ने उस शोहदे पर पहले थप्पडों की औऱ बाद में जूतों की बरसात कर दी. चारों ओर चंचल चौरसिया की वाहवाही हो रही है। सोशल मीडिया पर वह एकदम छा गई है।