जमिया हिंसा मामले पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी : आप स्टूडेंट हैं, इसलिए आपको हिंसा करने का अधिकार नहीं मिल जाता


नई दिल्ली। आज जामिया हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट ने तल्ख टिप्पणी करते हुए चीफ जस्टिस एसए बोबडे ने कहा कि आप स्टूडेंट हैं, इसलिए आपको हिंसा करने का अधिकार नहीं मिल जाता है. अब इस मामले में मंगलवार को सुनवाई होगी, लेकिन हम चेतावनी देते हैं कि अगर प्रदर्शन, हिंसा और सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया जाता है तो हम सुनवाई नहीं करेंगे.


याचिकाकर्ता ने रिटायर जजों की जांच कमेटी बनाने की मांग की है, ताकि पुलिस कोई कार्रवाई न करे. इस पर सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को सुनवाई करेगा.


चीफ जस्टिस ने कहा, हम वीडियो (कोर्ट को एक वकील ने जामिया हिंसा के वीडियो की जानकारी दी) नहीं देखना चाहते. अगर हिंसा जारी रहेगी और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया जाता रहेगा तो हम सुनवाई नहीं करेंगे. चीफ जस्टिस बोबडे ने कहा, हम अधिकार सुनिश्चित करेंगे लेकिन हिंसा के माहौल में नहीं. यह सब कुछ थमने दीजिए उसके बाद स्वतः संज्ञान लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि हम अधिकारों और शांतिपूर्प प्रदर्शन के खिलाफ नहीं हैं.


Popular posts
इंडियन पेरोक्साइड लि. ने कोरोना ड्राइव हेतु नोएडा को उपलब्ध कराया हाइड्रोजन पेरोक्साइड, यूपी के अन्य जिलों को भी निःशुल्क मिलेगा दान
Image
" जुग सहस्त्र जोजन पर भानु " हनुमान चालीसा के इस पंक्ति में है धरती से सूर्य की दूरी
Image
जारचा के छोलस में बच्चों के क्रिकेट खेलने को लेकर हुए झगड़े में 4 लोगों की हुई गिरफ्तारी
Image
नोएडा के दीपाक्षी अस्पताल के गेट पर शव को रखने पर हुआ एफआईआर, जांच के लिए उच्च स्तरीय टीम गठित
Image
स्वामी विवेकानंद ग्रामीण विकास सहयोग संस्था झुग्गी- झोपड़ी के मुद्दे को लेकर 27 फरवरी को प्राधिकरण पर होनेवाली धरने का दिया समर्थन
Image