शिक्षाप्रद : सुंदर और संस्कारी बहु चाहिए तो ?

एक जज साहब ने अपने बेटे का रिश्ता अच्छे घराने में आधुनिक सुंदर लड़की को देखकर तय कर दिया।
कुछ दिनों बाद, जज साहब होने वाले समधी के घर गए
तो देखा कि होने वाली समधन खाना बना रही थीं।
सभी बच्चे और होने वाली बहू टी .वी देख रहे थे। जज
साहब ने चाय पी, कुशल जाना और चले आये।
एक माह बाद, जज समधी जी के घर, फिर गए।
देखा, भावी समधन जी झाड़ू लगा रहीं थी, बच्चे पढ़ रहे थे
और होने वाली बहू सो रही थी। वकील साहब ने खाना
खाया और चले आये।



कुछ दिन बाद,  जज साहब किसी काम से फिर होनेवाले समधी जी के घर गए। घर में जाकर देखा, होने वाली
समधन बर्तन साफ़ कर रही थी, बच्चे टीवी देख रहे थे और होनेवाली बहू खुद के हाथों में नेलपेंट लगा रही थी।
जज साहब ने घर आकर, गहन सोच-विचार कर लड़की
वालों के यहाँ खबर पहुचाई, कि हमें ये रिश्ता मंजूर नहीं है।"



...कारण पूछने पर जज साहब ने कहा कि, "मैं होने वाले
समधी के घर तीन बार गया।
तीनों बार, सिर्फ समधन जी ही घर के कामकाज में व्यस्त
दिखीं। एक बार भी मुझे होने वाली बहू घर का काम
काज करते हुए नहीं दिखी। जो बेटी अपने सगी माँ को हर
समय काम में व्यस्त पा कर भी उन की मदद करने का न सोचे, उम्र दराज माँ से कम उम्र की, जवान हो कर भी स्वयं की माँ का हाथ बटाने का जज्बा न रखे, वो किसी और की
माँ और किसी अपरिचित परिवार के बारे में क्या
सोचेगी?



"मुझे अपने बेटे के लिए एक बहू की आवश्यकता है, किसी
गुलदस्ते की नहीं, जो किसी फ्लावर पार्क में सजाया
जाये।
इसलिये सभी माता-पिता को चाहिये कि वे इन छोटी-
छोटी बातों पर अवश्य ध्यान दें ।
बेटी कितनी भी प्यारी क्यों न हो, उससे घर का काम
काज अवश्य कराना चाहिए।
समय-समय पर डांटना भी चाहिए, जिससे ससुराल में
ज्यादा काम पड़ने या डांट पड़ने पर उसके द्वारा गलत करने
की कोशिश ना की जाये।
हमारे घर बेटी पैदा होती है, हमारी जिम्मेदारी बेटी से
"बहू", बनाने की भी है।



अगर हमने, अपनी जिम्मेदारी ठीक तरह से नहीं निभाई,
बेटी में बहू के संस्कार नहीं डाले तो इसकी सज़ा, बेटी को
तो मिलती है और माँ बाप को मिलती हैं, "जिन्दगी भर
गालियाँ"।
हर किसी को सुन्दर, सुशील बहू चाहिए। लेकिन भाइयो,
जब हम अपनी बेटियों में, एक अच्छी बहु के संस्कार, डालेंगे
तभी तो हमें संस्कारी बहू मिलेगी।
ये  कड़वा सच , शायद कुछ लोग न बर्दाश्त कर पाएं
....लेकिन पढ़ें और समझें, बस इतनी प्रार्थना ..।
वृद्धाआश्रम में माँ- बाप को देखकर सब लोग बेटो को ही
कोसते हैं, लेकिन ये कैसे भूल जाते हैं कि उन्हें वहां भेजने में किसी की बेटी का भी अहम रोल होता है। वरना बेटे अपने माँ बाप को शादी के पहले वृद्धाश्रम क्यों नही भेजते !


Popular posts
इंडियन पेरोक्साइड लि. ने कोरोना ड्राइव हेतु नोएडा को उपलब्ध कराया हाइड्रोजन पेरोक्साइड, यूपी के अन्य जिलों को भी निःशुल्क मिलेगा दान
Image
" जुग सहस्त्र जोजन पर भानु " हनुमान चालीसा के इस पंक्ति में है धरती से सूर्य की दूरी
Image
जारचा के छोलस में बच्चों के क्रिकेट खेलने को लेकर हुए झगड़े में 4 लोगों की हुई गिरफ्तारी
Image
नोएडा के दीपाक्षी अस्पताल के गेट पर शव को रखने पर हुआ एफआईआर, जांच के लिए उच्च स्तरीय टीम गठित
Image
स्वामी विवेकानंद ग्रामीण विकास सहयोग संस्था झुग्गी- झोपड़ी के मुद्दे को लेकर 27 फरवरी को प्राधिकरण पर होनेवाली धरने का दिया समर्थन
Image