अचला सप्तमी सूर्य जन्मोत्सव पर देव में सूर्यरथ यात्रा सह कलश यात्रा के साथ होगा मंदिर परिषर में समूहिक आदित्य हृदय स्त्रोत का पाठ


देव। बिहार के ऐतिहासिक सूर्य नगरी देव में भगवान सूर्य के जन्मोत्सव अचला सप्तमी के पावन मौके पर 1 फरवरी से 4 फरवरी तक भव्य सूर्यरथ यात्रा के साथ ही मंदिर परिसर में सूर्य जन्मोत्सव के दिन सामूहिक आदित्य हृदय स्त्रोत्र की पाठ होगी।  यह घोषणा यहां संज्ञा समिति की बैठक में की गई।  यह बैठक दुर्गा मंदिर के प्रांगण में की गई जिसकी अध्यक्षता सतीश मिश्रा ने की और संचालन वर्तमान अध्यक्ष राजेश पाठक ने किया।


बैठक में जन कल्याण के निमित अचला सप्तमी के अवसर पर आदित्य हृदय स्त्रोत्र का पाठ भी किया जायेगा । पाठ पूजन के बाद दुर्गा मंदिर परिसर में प्रसाद की व्यवस्था की जाएगी।


उल्लेखनीय है कि देव में भगवान सूर्य का जन्मस्थान माना जाता है। यहीं जन्म लेकर उन्होंने अपने तेज से राक्षसों का विनाश किया था। देव में त्रेतायुगीन सूर्यमंदिर मौजूद है, जिसे आस्था के साथ भगवान विश्वकर्मा निर्मित माना जाता है,  तो कुछ लोग इसे एल राजा द्वारा निर्मित मानते हैं।



बैठक में सभी वर्गों और समुदाय के लोगो से सूर्य सप्तमी के अवसर पर नमक और तेल का त्याग करने का अपील किया गया है । बैठक में सचिव धीरज पाण्डेय, उपाध्यक्ष रविकान्त पाठक, कोषाध्यक्ष चंदन मिश्रा, रूपेश पाठक , राजकिशोर पाठक , मनोहर मिश्रा, समीर कुमार मिश्रा , नरेश पाठक अभयानंद पाठक ,सुभाष पाठक , गौरव पाठक, रौशन पाठक , अमित पाठक, अंकित पाठक सहित अन्य लोग उपस्थित थे ।