देश की सीमा सुरक्षा में तैनात चंद्रभान चौरसिया हुए शहीद , शोक की लहर

चौरसिया समाज का सपूत चंद्रभान चौरसिया देश की सीमा सुरक्षा करते हुए हो गए शहीद, शोक की लहर 
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐


कुशीनगर। जम्मू कश्मीर में हुए हिमस्खलन में कुशीनगर का लाल चंद्रभान  चौरसिया सीमा की सुरक्षा करते हुए  शहीद हो गए। उनका का पार्थिव शरीर आज बुधवार को घर पहुंचेगा। जवान की मौत की सूचना मिलते ही घर में कोहराम मच गया। पूरा क्षेत्र शोक में डूब गया है।
कुशीनगर के तमकुहीराज क्षेत्र के दुमही गांव के चंद्रभान चौरसिया करीब पांच साल पहले भारतीय सेना में नर्सिंग स्टाॅफ के रुप में भर्ती हुए थे। सेना में भर्ती होने के बाद साल 2015 में चंद्रभान की शादी बड़े धूमधाम से हुई थी। चंद्रभान के दो बच्चे हैं।



जानकारी के अनुसार चंद्रभान की तैनाती कुपवाड़ा के मचैल सेक्टर में थी। सोमवार की रात मौत हिमस्खलन के रुप में आई। हिमस्खन और भारी बर्फबारी ने पिछले 48 घंटों में जमकर तबाही मचाई। इसी आफत का शिकार कुपवाड़ा में तैनात चंद्रभान भी हो गए।
हिमस्खलन का शिकार होने की वजह से वह काल की गाल में समा गए। मंगलवार की सुबह सेना हेडक्वार्टर से चंद्रभान के घर फोन आया। फोन आते ही पूरे घर में कोहराम मच गया। दरवाजे पर काफी भीड़ जमा हो गई। परिजन का रो रोकर बुरा हाल है।


चौरसिया समाज में शोक की लहर है। लोग स्तब्ध हैं। साथ ही इस सपूत के शहीद होने पर नमन कर रहे हैं।