एमिटी विश्वविद्यालय में वायुसेना में कैरियर बनाने के लिए जागरूकता अभियान आयोजित

**    वायुसेना में कैरियर बनाने के लिए एमिटी विश्वविद्यालय में जागरूकता अभियान आयोजित


***     वायुसेना के इंडक्शन पब्लिसीटी एक्जीबिशन व्हीकल का हुआ प्रर्दशन



नोएडा। विधि, प्रबंधन एंव इंजिनियरिंग छात्रों को वायुसेना में कैरियर बनाने के प्रति जागरूक करने एंव जानकारी प्रदान करने के लिए भारतीय वायुसेना द्वारा एमिटी विश्वविद्यालय में जागरूकता अभियान का आयोजन आई टू ब्लाक सभागार में किया गया। इसके अतिरक्त भारतीय वायुसेना के ‘‘डंडक्शन पब्लिसीटी एक्जीबिशन व्हीकल’’ के प्रर्दशन का आयोजन भी एमिटी परिसर में किया गया जिसमें छात्रों को वायुसेना के विभिन्न विमानों, मशीनों के संर्दभ में विस्तृत जानकारी प्रदान की गई।


कार्यक्रम के अवसर पर भारतीय वायुसेना मुख्यालय के डायरेक्टोरेट ऑफ पर्सनल ऑफिसर के पब्लिसिटी सेल ‘‘दिशा’’ की विंग कमांडर स्नेहा सिंह ने छात्रों को वायुसेना के गौरवपूर्ण इतिहास एंव उसमें कैरियर बनाने के संर्दभ में छात्रों को विस्तृत जानकारी प्रदान की। इस अवसर पर विंग कमांडर शैलेष शर्मा, ( जेएजी - एयर) भी उपस्थित थे। कार्यक्रम के अवसर पर एमिटी लाॅ स्कूल के कोरपोरेट रिर्सोस सेंटर के प्रमुख गु्रप कैप्टन ए के सक्सेना एंव एमिटी लाॅ स्कूल के एडिशनल डायरेक्टर डा आदित्य तोमर ने अतिथियों का स्वागत किया।


विदित हो कि भारतीय वायुसेना द्वारा स्न 2015 में डंडक्शन पब्लिसीटी एक्जीबिशन व्हीकल’’ विकसित किया गया जिसमें फ्लाइट सिम्युलेटर, ग्लासट्रान, एयरक्राफ्ट माॅडल, उड़ने के दौरान पहने गये वस्त्र एंव अन्य युवा उन्मुख यंत्रों का प्रर्दशन किया गया जिसका उदेदश्य भारतीय वायुसेना के विभिन्न पहलुओं को दर्शाना है।


भारतीय वायुसेना मुख्यालय के डायरेक्टोरेट ऑफ पर्सनल ऑफिसर के पब्लिसिटी सेल ‘‘दिशा’’ की विंग कमांडर स्नेहा सिंह भारतीय वायुसेना के इतिहास एंव लड़ाकू आपरेषन की जानकारी देते हुए वायु सुरक्षा एंव अक्रामक संचालन के बारे मे बताया। उन्होनें विभिन्न फाइटर प्लेन जैसे राफेल, जगुआर, मिग 27, मिग 29, मिराज एंव तेजस सहित हैलीकाॅप्टर, ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट, एक्रोबेटिक एयरक्राफ्ट के बारे मे बताया और कहा कि जरूरत के अनुरूप भारतीय वायुसेना, भारतीय थलसेना, जलसेना एंव नागरिक प्राधिकरणों के साथ देश में षांती सुनिश्चत करने हेतु संयुक्त कार्य भी करती है। उन्होनें छात्रों को वायुसेना में प्रवेश हेतु विभिन्न प्रतियोगी परिक्षाओं जैसे यूपीएससी (एनडीए एंड सीडीएस), एएफसीएटी, एमइटी, एनसीसी एंव एसइसी के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि छात्र भारतीय वायुसेना के तीन विभाग फ्लाइंग, टेक्नीकल एंव ग्रांउड डयूट्ीस में अपनी उम्र, शारीरिक क्षमता, शिक्षा एंव रूचि के अनुसार आवेदन दे सकते है। उन्होने छात्रों को परमानेंट एंव शार्ट कमीशन सर्विस, रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया, चयनीत प्रक्रिया, मेडिकल पैरामीटर सहित वायुसेना द्वारा प्रदान की जानेवाली सुविधाओं के बारे मे बताया। छात्रों के सवाल का जवाब देते हुए उन्हें प्रशासनिक, लाॅजिस्टिक, एकंाउट, मेट्रोलाॅजी आदि क्षेत्र के संर्दभ मे जानकारी प्रदान की।


विंग कमांडर शैलेष शर्मा ( जेएजी - एयर ) ने विधि के छात्रों को वायुसेना में कैरियर बनाने के लिए प्रोत्साहित करते हुए जज एडवोकेट जनरल ( जेएजी ) के संर्दभ में जानकारी देते हुए बताया कि इस भाग द्वारा किस तरह प्रशासनिक एंव लीगल जस्टीस प्रक्रिया को नियत्रिंत किया जाता है। उन्होनें छात्रों से समूह कार्य एंव देश के कार्य करने के गौरव को बताया। 


एमिटी लाॅ स्कूल के कोरपोरेट रिर्सोस सेंटर के प्रमुख गु्रप कैप्टन ए के सक्सेना ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि विधि, प्रबंधन एंव इंजिनियरिंग छात्रों हेतु भारतीय वायुसेना में शानदार कैरियर के अवसर उपलब्ध है और इस प्रकार के कार्यक्रमों द्वारा उन्हें ना केवल भारतीय वायुसेना में कैरियर बनाने के संर्दभ में जानकारी मिलेगी बल्कि उन्हें सवालों का समुचित जवाब भी मिलेेेंगे।


एमिटी स्कूल आॅफ इजिनियरिंग एंड टेक्नोलाॅजी के बीटेक के छात्र तुषार ने ‘‘डंडक्शन पब्लिसीटी एक्जीबिशन व्हीकल’’ में भारतीय वायुसेना के उपकरण, सिमुलेटर, यूनीफार्म ने उन्हे काफी प्रभावित किया है और अब परिक्षा को पास करके भारतीय वायुसेना से जुड़ने का प्रयास करेगें। एमिटी लाॅ स्कूल नोएडा की छात्रा शिवांगी ने कहा कि आज भारतीय वायुसेना के संर्दभ में जानकारी प्राप्त हुई है उससे वे काफी उत्साहित है और प्रतियोगी परिक्षाओं मे हिस्सा लेकर वे भारतीय वायुसेना का हिस्सा बनेगीं।


इस अवसर पर एमिटी विश्वविद्यालय के हजारों छात्रों ने डंडक्श्न पब्लिसीटी एक्जीबिशन व्हीकल’’ में जाकर भारतीय वायुसेना के संर्दभ में जानकारी प्राप्त की।