यूपी के नए डीजीपी बनने के रेस में सबसे आगे हैं डीएस चौहान , जनपद गौतमबुद्ध नगर में रह चुके हैं एएसपी

नोएडा। यूपी के डीजीपी ओपी सिंह 31 जनवरी को रिटायर हो रहे हैं। इसी के साथ अब प्रदेश पुलिस के नए मुखिया की खोज भी तेज हो गई है। सूत्रों के अनुसार आईपीएस देवेन्द्र सिंह चौहान (डीएस चौहान) का नाम लगभग तय हो चुका है। हालांकि, अभी इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। बता दें, 1983 बैच के आईपीएस ओपी सिंह 23 जनवरी को यूपी डीजीपी के रूप में अपना दो साल का कार्यकाल पूरा कर लेंगे। 31 जनवरी को रिटायर हो जाएंगे। जानकारी के मुताबिक, उन्होंने मुख्य सूचना आयुक्त के पद के लिए अप्लाई कर दिया है।



मूल रूप से यूपी के मैनपुरी के रहने वाले डीएस चौहान 1988 बैच के आईपीएस अफसर हैं। ये डीजी रैंक के अफसर हैं। इनकी छवि मेहनती और कुशल अफसर के रूप में बनी है। वर्तमान में ये केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल में तैनात हैं। यूपी के डीजीपी के लिए इनका नाम इसलिए तय माना जा रहा है क्योंकि यूपी सरकार ने इन्हें केंद्र सरकार से वापस मांगा था, जिसपर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने स्वीकृति दे दी। अब ये ​केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से यूपी कैडर में वापस लौट रहे हैं।डीएस  चौहान जनपद गौतमबुद्ध नगर में एसएसपी रह चुके हैं। यहां से उनका काफी लगाव भी रहा है।


 डीएस चौहान के अलावा डीजीपी की रेस में 1984 बैच के आईपीएस डॉ. एपी माहेश्वरी और 1988 बैच के आईपीएस आनंद कुमार भी शामिल हैं। डॉ. एपी माहेश्वरी वर्तमान में केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर ब्यूरो आफ पुलिस रिसर्च एंड डेवलपमेंट में डीजी पद पर कार्यरत हैं। ये फरवरी 2021 में रिटायर होंगे। इसके अलावा 1985 बैच के डीजी विजिलेंस हितेश चंद्र अवस्थी, केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर आरपीएफ के डीजीपी अरुण कुमार का नाम भी शामिल है।