अचला सप्तमी सूर्य जन्मोत्सव पर देव हुआ भक्तिमय, रथयात्रा में उमड़ी हजारों की भीड़

देव। आज भगवान सूर्य नारायण के जन्मोत्सव अचलासप्तमी (माघ शुक्ल सप्तमी) पर देव पर्यटन विकास केंद्र के तत्वाधान में भगवान भाष्कर की भव्य रथ यात्रा का आयोजन हु, जो देव के हर क्षेत्र में परिभ्रमण कराया गया। इस आयोजन में हज़ारों श्रद्धालुओं ने भाग लिया। इस रथयात्रा में दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा की ओर से प्रचार कार्यक्रम केअपने व्यस्त कार्यक्रमों के बीच समय निकाल कर पूर्व सहकारिता मंत्री रामाधार सिंह भी शामिल हुए।



यह रथयात्रा देव सूर्य मंदिर से प्रारंभ होकर जयघोष के साथ देव में भ्रमण किया। रथ यात्रा को भाजपा जिला प्रवक्ता आलोक सिंह , मुकेश सिंह , रवि पाण्डेय , उदय सिंह , पवन पाण्डेय सहित दर्जनों लोग रथ को खींचने में लगे हुए थे। वहीं सैकड़ो की संख्या में महिला, पुरुष, श्रद्धालु रथ की रस्सी को पकड़कर भगवान सूर्य की जयघोष कर रहे थे। इससे देव भक्तिमय बन गया। 


इस रथ यात्रा में औरंगाबाद के विधान पार्षद राजन कुमार सिंह अपने कार्यकर्ताओं के साथ सम्म्मलित हुए और भगवान सूर्य के जयघोष के साथ नगर भ्रमण किया । वहीं हांथो में माइक थामे भाजपा युवा नेता प्रकाश सोलंकी भक्तो में उत्साह और ऊर्जा भर रहे थे।


रथ यात्रा में विराजित भगवान सूर्य की प्रतिमा को और रथ यात्रा में उपस्थित श्रधालुओ पर स्थानीय निवासी अपने घरों के छतों से पुष्प वर्षा करते हुए मोबाइल से इस अलौकिक दृश्य को कैद करने में जुटे रहे । रथ यात्रा देव बाजार होते हुए देव गोदाम पहुंची और वहां से भगवान सूर्य के कलश में जलभरी कर भगवान के कलश के साथ लगभग 10 हजार श्रधालुओ ने भगवान सूर्य के रथ यात्रा में आगे की ओर रवाना हुए।


भगवान सूर्य का रथ सूर्यकुंड तालाब से आगे की रवाना होते हुए देव चौरसिया नगर , बालपोखर , बरई बिगहा , देव किला , देव मुख्य सड़क होते हुए थाना मोड़ , कन्हौस , होते हुए सीआरपीएफ कैम्प तक भगवान का रथ पहुंचा । वहां से रथ पुनः लौटते हुए वापस देव किला स्थित अपने स्थान पर पहुंचा।


 पर्यटन विकास केंद्र द्वारा आयोजित सूर्य रथ यात्रा सह कलश यात्रा में हजारों की संख्या में महिला एवं पुरुष श्रधालुओ की भीड़ देखने को मिली। रथ यात्रा में शामिल भगवान सूर्य की प्रतिमा को 12 विद्वान ब्राह्मणों द्वारा वैदिक मन्त्रोच्चारण के साथ पूजा पाठ किया गया।


रथ यात्रा समिति की ओर से 2100 महिला श्रद्धालुओ ने कलश लेकर भगवान का पूजन किया है जबकि कलश यात्रा में 5000 से ज्यादा महिला पुरुष श्रद्धालु भाग ले सके।  इस मौके पर हजारो की संख्या में महिलाओं और पुरुष श्रधालुओ को समिति की ओर से प्रसाद के रूप में फल वितरण किया गया । प्रसाद ग्रहण के बाद रथ यात्रा के आज का कार्यक्रम समाप्त हुआ ।