गौतमबुद्ध नगर में राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन हेतु 17-29 फरवरी तक अभियान चलाने का निर्देश

नोएडा। जनपद गौतमबुद्धनगर में राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम को सफल बनाने के उद्देश्य से आज जिलाधिकारी बी0एन0 सिंह के द्वारा कलैक्ट्रेट सभागार में एक महत्वपूर्ण बैठक की अध्यक्षता करते हुये कहा कि स्वास्थ विभाग के द्वारा शासन की मंशा के अनुरूप क्षयरोग के मरीजों का 17 फरवरी से 29 फरवरी 2020 तक अभियान चलाकर, चिन्हिकरण करते हुये, उनका ईलाज कराते हुये अपनी रिपोर्ट शासन को प्रेषित करने की कार्यवाही समयबद्धता के साथ करना सुनिश्चित करें। उन्होंने स्वास्थ विभाग को निर्देश देते हुये कहा कि उनके द्वारा निजी चिकित्सकों से टीबी मरीजों के इलाज में सहयोग लिया जायें साथ ही मरीजों के नोटिफिकेशन के सम्बन्ध जानकारी प्राप्त करते हुये कार्यवाही सुनिश्चित करें।



जिलाधिकारी ने कहा कि सभी सरकारी एवं गैर सरकारी चिकित्सकों, लैब तथा कैमिस्ट के द्वारा किसी प्रकार के टीबी मरीज की जानकारी छिपाये नहीं, मरीज का पूरा ब्योरा तुरंत सीएमओ कार्यालय को उपलब्ध कराएं।
 जिलाधिकारी ने क्षय रोग रिपोर्ट का अवलोकन करते हुये जिला क्षय रोग अधिकारी (डीटीओ) डॉ. शिरीश जैन को निर्देश देते हुये कहा कि वह टीबी मरीजों का इलाज सरकारी गाइड लाइन के तहत ही करें और जिन चिकित्सकों के द्वारा क्षयरोग के मरीजों के सम्बन्ध में कोई भी सूचना उपलब्ध नही करायी जा रही उनको पत्रचार के माध्यम से जबाव तलब करते हुये आवश्यक कार्यवाही अमल में लायें। उन्होंने कहा कि टीबी का एक भी मरीज नोटिफाई हुए बिना न रह जाए। इसलिए निजी डॉक्टरों को इस संबंध में सख्त निर्देश जारी किये जायें। किसी भी निजी डॉक्टर ने टीबी के मरीज की सूचना स्वास्थ  विभाग को देने में लापरवाही बरती हो तो उसके खिलाफ विधिक सख्त कार्रवाई की जाए।
   जिलाधिकारी ने सम्बन्धित अधिकारी को निर्देश देते हुये कहा कि क्षयरोग के लक्षण व उससे बचाव की एडवाइजरी तैयार करते हुये उसका व्यापक स्तर प्रचार प्रसार कराया जायें, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग जागरूक हो सकें। जिलाधिकारी ने औषधि निरीक्षक को निर्देश देते हुये कहा कि उनके द्वारा एक अभियान के तहत जनपद की समस्त कैमिस्ट की दुकानों का निरीक्षण किया जायें और जिस भी कैमिस्ट पर किसी भी क्षयरोग से ग्रस्त मरीज की सूचना है तो उसको तुरन्त स्वास्थ विभाग उपलब्ध करायी जायें, अन्यथा की स्थिति में सम्बन्धित कैमिस्ट की दुकान के विरूद्ध सख्त कार्यवाही करना सुनिश्चित करें।
   इस महत्वपूर्ण बैठक में मुख्य चिकित्साधिकारी अनुराग भार्गव, जिला समाज कल्याण अधिकारी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, औषधि निरीक्षक तथा अन्य सम्बन्धित अधिकारियों के द्वारा भाग लिया गया।