मीटिंग कर रहे किसानों को फिर किया गया नजरबंद, किसानों में गुस्सा

नोएडा। आज आपस में  मीटिंग कर रहे किसानों को दूसरे दिन भी किया गया नज़रबंद। जबकि भारतीय किसान संगठन के प्रदेश अध्यक्ष दो दिन से घर में है नज़रबंद। इससे किसानों के बीच काफी गुस्सा है।



बता दें कि भारतीय किसान संगठन के प्रदेश अध्यक्ष राजेंद्र यादव के आवास ग्राम गढ़ी  चौखंडी नोएडा पर किसानों की हुई गिरफ्तारी के विरोध में बीते बुधवार को पंचायत चल रही थी तभी अचानक भारी पुलिस बल के साथ थाना फेस 3 के एस एच ओ  मौके पर पहुंच गए । वहां पहुंचकर पुलिस ने राजेंद्र यादव समेत सैकड़ों की संख्या में किसानों को गिरफ्तार कर लिया। साथ ही राजेंद्र यादव को भारी पुलिस बल की मौजूदगी में उनके आवास पर ही नज़रबंद कर दिया गया।


 राजेंद्र यादव के अनुसार अब  किसान कोई विरोध प्रदर्शन भी नहीं कर सकते। इससे अच्छा तो पुलिस हमें गिरफ्तार करके जेल भेज दे। शांतीपूर्वक प्रदर्शन कराना हमारा  संवैधानिक अधिकार है, इसे कोई नहीं छीन सकता।


इस मौके पर रविन्द्र भाटी दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष, भरत प्रधान, रवि प्रमुख, सुंदर सिकन्दरपुर मंडल अध्यक्ष, जिला  अध्यक्ष गौतमबुद्धनगर परविंदर, लोकेश नगर जिला अध्यक्ष गाज़ियाबाद, प्रमोद कुमार प्रदेश प्रवक्ता योगेश गौर राजेश पाल, लक्षण, नोसाद ,फजर मोहम्मद चमन चौहान,राजकुमार शर्मा, धर्मपाल प्रधान, राजपाल यादव धर्मेंद्र पहलवान, सुरेन्द्र पहलवान,रवि यादव, सतीश, ओमप्रकाश,  संतोष,बिमला रोताशी कमलेश संता देवी पूनम नीलम को घर में नजरबंद किया गया।


राजेंद्र यादव ने कहा कि मेरा जिला प्रशासन से पुनःअनुरोध है कि प्राधिकरण और किसानों के बीच में मध्यस्था से हल निकलवाए, अन्यथा भारतीय किसान संगठन एक बड़ा आंदोलन करेगा। किसी भी स्तर कि जांच करा लो, किसान किसी भी तरह से गलत नहीं हैं। आज किसान जिस दर्द से परेशान हैंवह नोएडा विकास प्राधिकरण ने दिया है। इसका नाम बदल कर नोएडा विनाश प्राधिकरण कर देना चाहिए।


उन्होंने आरोप लगाया कि शर्म की बात यह है कि हमारे प्रति निधि सांसद और विधायक को किसानों का दर्द नहीं दिख रहा है। कहने को तो हम दिल्ली के समीप हैं, जहाँ से पूरा देश चलता है। पर, किसी को किसानों का दर्द दिखाई नहीं दे रहा है। अब समय आ गया है कि नोएडा प्राधिकरण को उसी की भाषा में जवाब दिया जाए।  ज्ञात हो कि 11 फरवरी को किसानों की गिरफ्तारी हुई थी। गिरफ्तारी के विरोध में राजेंद्र यादव ग्राम गढ़ी चौखंडी से नोएडा विकास प्राधिकरण सेक्टर 6 के घेराव को जा रहे थे।