नोएडा में बारात घर का मामला सुलझा, किराया दर भी होगा कम

**    नोवरा की मांग पर ख़त्म  हुआ बारात घर विवाद, विधायक पंकज सिंह ने दिए स्पष्ट आदेश 
**     शहर में लोकतान्त्रिक तरीके से विरोध करने को उपलब्ध हो स्थल, किसानों की गिरफ़्तारी पर दिया ज्ञापन 



नोएडा। शहर की समाजसेवी संस्था नोवरा के लगातार प्रयासों एवं विधायक पंकज सिंह के ग्रामीण हितों के लिए खड़े होने के कारण आज एक बड़ा मुद्दा सुलझा लिया गया है। जल्द ही  नोएडा प्राधिकरण इस बाबत सार्वजानिक सूचना जारी करेगी। 


गौरतलब है के हाल ही में  नोएडा प्राधिकरण ने नोएडा के 81 गाँवों के बरात घर अपने कब्ज़े में ले कर उन्हें अपनी एक पालिसी के तहत किराये पर देने का काम शुरू कर दिया था।जिसका किराया भी 7500 रुपए के करीब रख दिया गया था एवं पहली प्राथमिकता भी ग्रामीणों को नहीं दी गई थी।


 इस बात को लेकर जनता में काफी रोष था। नोवरा समेत कई संस्थाएं इस बाबत प्राधिकरण एवं विधायक से मिले थे। आज  पंकज सिंह ने यह साफ़ कर दिया कि प्राधिकरण 2100 या ज़्यादा से ज़्यादा 3100 रुपए की फीस रख सकता है।  इसके अलावा पहली प्राथमिकता ग्रामीण जनता को दी जायेगी।  


हालाँकि बारात घर का संचालन समितियां करेंगी या पूर्व प्रधान करेंगे अथवा प्राधिकरण खुद करेगा। इस बाबत पालिसी लाने की आज़ादी ज़रूर प्राधिकरण को है। 


 विधायक पंकज सिंह ने प्राधिकरण के अफसरों को फटकार लगाते हुए कहा है कि वह एक सार्वजानिक संस्था है। उनका मूल उद्देश्य पैसे कमाना नहीं, बल्कि जनहित होना चाहिए।  नोवरा अध्यक्ष  रंजन तोमर ने विधायक को ग्रामीणों की तरफ से धन्यवाद करते हुए कहा कि ग्रामीणों को उनका अधिकार मिलने और उनके आत्म सम्मान के लिए यह जीत आवश्यक थी।  


रंजन तोमर ने कहा कि विरोध एवं धरना करने को नोएडा में   जंतर मंतर जैसा स्थान प्राप्त हो। नोवरा द्वारा  पंकज सिंह के सामने यह मांग भी रखी कि लोकतंत्र में शांतिपूर्ण  विरोध और धरना प्रदर्शन करने का अधिकार सभी का है।  वहींं नोएडा एक उभरता हुआ शहर है। ऐसे में यहाँ ऐसी कोई जगह निश्चित नहीं है जहाँ जनता सरकार के खिलाफ या   धरना प्रदर्शन कर सके और आम जनता को परेशानी न हो।ऐसी ही स्थिति के कारण ग्रामीण किसानों को पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया।


नोवरा ने उन्हें जल्द से जल्द रिहा करने की मांग की और उन्हें धरना देने के लिए उचित स्थान देने सम्बन्धी भी ज्ञापन पंकज सिंह को दिया। इसके साथ ही शहर में एक लोकतंत्र की दिवार बनाने का स्थान सुनिश्चित हो, जहाँ राजनीतिज्ञ , समाजसेवी एवं गैर सरकारी संगठन अपने विचार रख सकें।   पंकज सिंह ने इन बातों पर जल्द ही कार्यवाही करने का आश्वासन दिया।  


इस दौरान नोवरा उपाध्यक्ष अजय चौहान , महासचिव पुनीत राणा , श्रीमती प्रज्ञा पाठक शर्मा , समाजसेवी गणेश कुमार , किसान संघर्ष समिति के महेश अवाना आदि उपस्थित रहे।