राजस्थान व हरियाणा से टिड्डी दल के गौतमबुद्ध नगर में प्रवेश के मद्देनजर किसानों को किया आगाह

नोएडा।  जिला कृषि रक्षा अधिकारी तन्नवी शर्मा ने राजस्थान एवं हरियाणा के विभिन्न क्षेत्रों में टिड्डी दल के प्रवेश को दृष्टिगत रखते हुए जनपद के किसान भाइयों को सचेत करते हुए कहा कि जनपद में निरंतर टिड्डी दल के आक्रमण की निगरानी की जाए, ताकि किसी भी स्तर के प्रकोप की दशा में ससमय टिड्डी दल पर नियंत्रण पाया जा सके।



उन्होंने टिड्डी दल कीट की निगरानी के लिए कृषि विभाग के सभी ग्राम/ विकासखंड स्तरीय कर्मचारियों को टिड्डी दल कीट पर नियंत्रण करने के उद्देश्य से निर्देश दिए हैं कि उनके द्वारा भी टिड्डी दल कीट के संबंध में व्यापक प्रचार-प्रसार कराया जाए ,ताकि जनपद के कृषक भाई पहले से ही सचेत रहें और टिड्डी दल को भगाने के लिए बर्तन ढोल नगाड़े आदि से ध्वनि कर फसलों की सुरक्षा की जा सकती है।


जिला कृषि रक्षा अधिकारी के द्वारा टिड्डी दल कीट के संबंध में विस्तृत रूप से जानकारी देते हुए बताया कि टिड्डी दल कीट द्वारा दिन में खाने तथा रात्रि के समय जमीन के अंदर अंडे देने की प्रवृत्ति होती है। टिड्डी दल कीट से बचाव के लिए उन्होंने कृषक भाइयों का यह भी आह्वान किया है कि यदि उनको अपनी फसलों में टिड्डी दल कीट की संभावना है तो वह कृषक मेलाथियान 50 ईसी 1.5 लीटर प्रति हेक्टयर, क्लोरोपाइरीफास 20 ईसी की 2 लीटर प्रति हेक्टेयर अथवा डाई क्लोरो वास 75% की 500 मिलीलीटर प्रति हेक्टेयर की दर से उक्त रसायनों को 600 से 700 लीटर पानी में घोल कर छिड़काव करें। उक्त के संबंध में अधिक जानकारी के लिए न्याय पंचायत स्तर पर प्राविधिक सहायक सी/ एटीएम/ बीटीएम/ विकासखंड स्तर पर प्रभारी/ सहायक विकास अधिकारी (कृषि/कृषि रक्षा) तहसील स्तर पर उप संभागीय कृषि प्रसार अधिकारी तथा जनपद स्तर पर कृषि रक्षा अधिकारी एवं उप कृषि निदेशक कार्यालय से संपर्क करके जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।