अर्बन इनोवेशन समिट के माध्यम से नोएडा को स्मार्ट सिटी बनाने का सपना संजोया

नोएडा। नोएडा को स्मार्ट सिटी बनाने का सपना ही है कि प्राधिकरण के सीईओ रितु महेश्वरी कोई कसर बाकी नहीं रखना चाहती हैं। कुछ माह में ही उन्होंने नोएडा को चमकाने के लिए साहसिक कदम उठाया है। रितु ने वह कार्य कर रही हैं, जो शायद नोएडा मिल का पत्थर बन जाय। यदि यह प्रयास पूर्व के सभी सीईओ किये होते तो नोएडा खुद स्मार्ट शहर की श्रेणी में खड़ा होता। यहां पूर्व सीईओ ने सरकार को नोएडा के पैसे बड़े राजस्व रूप में देने और अपने को स्थापित करने में जुटे रहे। नोएडा में खर्च कम किया। यदि खर्च भी किया तो उसमें भ्रष्टाचार शामिल रहा। 



बहरहाल,  नोएडा ने पूरी दुनिया में अपनी पहचान बनाई है, लेकिन अब तक यह स्मार्ट सिटी के कैटेगरी में शामिल नहीं हो पाया है। इसके लिए सीईओ के प्रयास से 23 दिसम्बर 2019 दिन सोमवार को नोएडा प्राधिकरण की ओर से सेक्टर 18 स्थित रेडिसन होटल में अर्बन इनोवेशन समिट का आयोजन किया गया। इसमें पेयजल, जल संचयन, सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट, सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट और मोबिलिटी पर विस्तार से चर्चा हुई। वक्ताओं ने इस प्रकरण पर कई सुझाव दिए तथा नोएडा के आगे के लक्ष्य को कैसे पूरा किया जाय, अपनी बात रखी।


मुख्य अतिथि के रूप में अर्बन इनोवेशन समिट में शामिल जल शक्ति मंत्रालय के सचिव यूपी सिंह ने कहा कि किसी भी शहर के लिए पीने के पानी के जरूरत बेहद महत्वपूर्ण है। हर किसी को पर्याप्त मात्रा में पानी मिले और उस पानी की गुणवत्ता भी बेहतर होनी चाहिए। होना तो यह चाहिए कि सड़क किनारे लगे टैब से आने वाला पानी भी पीने योग्य होना चाहिए। इसके लिए पानी का सही ट्रीटमेंट और ट्रांसपोर्टेशन होना चाहिए। इसके अलावा किसी भी शहर के लिए सीवेज बेहद महत्वपूर्ण होता है। हम जो पानी इस्तेमाल करते हैं, उसका 80 फीसदी सीवेज में जाता है। उसे ट्रीट करके नदियों या दूसरे जल स्रोतों में बहा दिया जाता है।


उन्होंने कहा कि हर घर सीवेज से कनेक्ट होना चाहिए और सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट में उसका सही ट्रीटमेंट होना चाहिए। दुनिया के कई देशों में सीवेज के पानी को ट्रीट कर बागवानी या खेती में इस्तेेमाल किया जाता है। लेकिन, इसके लिए जरूरी है कि पानी का सही ट्रीटमेंट होना चाहिए। उन्होंने नदियों के स्वरूप के बिगड़ने पर भी नाराजगी जताई। कहा, नदियों को पुराने स्वरूप में लाना बहुत जरूरी है।


नोएडा प्राधिकरण की सीईओ ऋतु माहेश्वरी ने कहा कि नोएडा को स्मार्ट सिटी बनाने की ओर फोकस किया गया। सेनिटेशन, वाटर, सीवेज, मोबिलिटी और इंवेस्टमेंट समेत तमाम विषयों पर विस्तार से चर्चा हुई। इसमें विशेषज्ञों के साथ इस बात पर चर्चा की गई कि इन क्षेत्रों में कैसे और बेहतर काम किया जा सकता है। कैसे अधिक से अधिक इंवेस्टमेंट लाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि पेयजल की दिशा में बहुत काम हुआ है, लेकिन अभी बहुत सी चुनौतियां हैं। पानी की गुणवत्ता और वाटर कंजरवेशन पर काम करने की जरूरत है। अभी 300 मीटर के प्लाट पर होने वाले हर निर्माण के लिए रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम बनाना कंपलसरी है।


सीईओ ने कहा कि शहर में मेट्रो, एयरपोर्ट, रोड आदि की व्यवस्था है, लेकिन इस बात पर फोकस किया गया इंटर सिटी कनेक्टिविटी को कैसे और बेहतर बनाया जाए। सेनिटेशन में बहुत काम किया गया है, लेकिन अभी बड़ी चुनौती सामने है। विशेषज्ञों से चर्चा की गई। इससे हम दोनों को कुछ सीखने और बेहतर करने को मिलेगा।


ऋतु माहेश्वरी ने कहा कि शहर में वाटर प्यूरीफायर प्लांट हैं। गंगाजल भी काफी मात्रा में उपलब्ध हैं। इसके अलावा एक बड़ा प्रोजेक्ट भी है। उसके तहत 90 एमएलडी और गंगाजल मिलेगा। यह प्रोजेक्ट सितंबर-2020 तक पूरा होने की संभावना है। उन्होंने कहा कि निवासियों को बेहतर गुणवत्ता वाला पानी उपलब्ध कराना उनके लिए बड़ी चुनौती है। इसके लिए काम किया जा रहा है।


वक्ताओं ने इंदौर, नवी मुंबई जैसे महानगरों के साफ -सफाई व प्लांनिग का भी जिक्र किया। उन्होंने स्पष्ट किया कि सभी की सहभागिता से ही यह बड़ा काम संभव है। इसके लिए लिए अभी संस्थाओं को जिम्मेदारी तय करनी ही होगी। 


Popular posts
इंडियन पेरोक्साइड लि. ने कोरोना ड्राइव हेतु नोएडा को उपलब्ध कराया हाइड्रोजन पेरोक्साइड, यूपी के अन्य जिलों को भी निःशुल्क मिलेगा दान
Image
" जुग सहस्त्र जोजन पर भानु " हनुमान चालीसा के इस पंक्ति में है धरती से सूर्य की दूरी
Image
समाज के पिछड़ों के महानायक और सर्वमान्य नेता थे बाबू शिवदयाल सिंह चौरसिया
Image
स्वामी विवेकानंद ग्रामीण विकास सहयोग संस्था झुग्गी- झोपड़ी के मुद्दे को लेकर 27 फरवरी को प्राधिकरण पर होनेवाली धरने का दिया समर्थन
Image
जय देव कृत दशावतार स्तुति के पाठ से मिलती है चिन्ताओं से मुक्ति
Image