नोएडा/ ग्रेटर नोएडा के फैक्ट्री श्रमिकों का पलायन शुरू : चौधरी

नोएडा। मजदूरों कि समस्या से हर कोई वाकिफ है। उत्तरप्रदेश सरकार ने श्रमिक कानून को समाप्त कर दिया है, जिससे मजदूर अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहा है। दूसरी तरफ मजदूरों को काम नहीं मिल रहा है, उद्योगपतियों द्वारा अप्रैल माह की सैलरी नहीं देने के कारण लोगों की माली हालत खराब हो गया है।अभी तक असंगठित क्षेत्रों के मजदूरों का पलायन सबसे ज्यादा हुआ है। यह बातें प्रवासी श्रमिक संघ के संयोजक नोएडा वी .के. चौधरी ने कही।



उन्होंने बताया कि अब नोएडा और ग्रेटर नोएडा से फैक्ट्री के श्रमिकों, क्रमचारियो का पलायन शुरू हो गया है। श्रमिक अपने राज्य जिला में वापसी का मन बना चुके हैं। अभी तक जो कुछ भी हुआ वह श्रमिकों को झकझोर दिया है। इस समय मजदूर राशन, किराया, बच्चो की पढ़ाई कैसे करेगा, एक बड़ा सवाल बन कर खड़ा है?


आज प्रवासी मजदूर कितना मजबूर हो गया है। रोजी- रोटी की तलाश में आया मजदूर अपना जन बचाकर पैदल ही अपने घर वापसी कर रहा है। सरकार के द्वारा इनके घर वापसी के लिए भी कोई साधन नहीं किया गया। जिस प्रकार पलायन जारी है, आने वाले समय में मजदूरों की भारी किल्लत होगी, जिसका असर सीधा उद्योग जगत पड़ पड़ेगा। अगर सरकार और उद्योगपतियों द्वारा उचित सहायता नहीं दिया तो भरी संख्या में पलायन होगा। सरकार अपना मजदूर विरोधी आदेश वापस ले, अन्यथा इसकी भरी कीमत उद्यगपतियों को चुकाना पड़ेगा।


 


Popular posts
इंडियन पेरोक्साइड लि. ने कोरोना ड्राइव हेतु नोएडा को उपलब्ध कराया हाइड्रोजन पेरोक्साइड, यूपी के अन्य जिलों को भी निःशुल्क मिलेगा दान
Image
" जुग सहस्त्र जोजन पर भानु " हनुमान चालीसा के इस पंक्ति में है धरती से सूर्य की दूरी
Image
समाज के पिछड़ों के महानायक और सर्वमान्य नेता थे बाबू शिवदयाल सिंह चौरसिया
Image
स्वामी विवेकानंद ग्रामीण विकास सहयोग संस्था झुग्गी- झोपड़ी के मुद्दे को लेकर 27 फरवरी को प्राधिकरण पर होनेवाली धरने का दिया समर्थन
Image
जय देव कृत दशावतार स्तुति के पाठ से मिलती है चिन्ताओं से मुक्ति
Image